IFFC – 6 का दूसरा दिन (2 दिसम्बर 2023) ,दूसरे दिन भी सुबह से शाम तक छाई रहीं लघु फिल्में – वाराणसी की सिल्वर स्क्रीन पर देखने को मिलीं कुछ अजब संस्कृतियां तो कुछ गजब पर्यटन स्थल

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी:छठवें सांस्कृति पर्यटन के अन्तर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव – वाराणसी का दूसरा दिन यानि कि 2 दिसम्बर 2023 एक यादगार दिन बन गया है, विकास भवन के सामने कचहरी रोड पर स्थित कमीशनर सभागार युवा फिल्म प्रेमियों से भरा रहा।


सुबह से ही पूरे दिन भर संस्कृति और पर्यटन सम्बंधि फिल्मों की स्क्रीनिंग का तांता लगा रहा,  आज न किसी सेलीब्रिटी का आगमन सम्भाषण न था, बस लघु फिल्में देखी गईं और फिल्मों की चर्चाएं रहीं। बनारसी युवाओं का फिल्मों के प्रति लगाव देखते ही बनता है, सच ये फिल्में भी मज़े मज़े में न जाने कितनी कहानियाँ कह जाती हैं। शोज़ के ब्रेक टाईम में चाय की चुस्की के साथ चर्चा करते हुए फेस्टीवल चेअरमैन  देवेन्द्र खंडेलवाल जो सैकड़ों डॉक्यूमेंट्री फिल्मों के निर्माता निर्देशक हैं, और अपने समय के प्रसिद्ध अभिनेता भी रहे हैं,

वे बताते हैं फेस्टीवल के पिछले एडीशन्स में मात्र सात अवॉर्डस दिए जाते थे जो इस प्रकार हैं - लेकिन इस बार दो खास अवॉर्डस और जोड़े गये हैं – पहला है दर्शकों की सबसे पसंदीदा फिल्म और दूसरा है बेस्ट फिल्म इन यूपी चैलेंज कम्पीटीशन। दर्शकों की जूरी को फेस्टीवल टीम ने ही सलेक्ट किया है। और देवेन्द्र जी आगे कहते हैं कॉलेज के विद्यार्थी गण जिस उत्साह से लगन से फिल्मों को देख रहे हैं, उससे तो लगता है कि वाकई कोई ऐसी फिल्म होगी जिसके विनिंग मार्क्स सेलीब्रिटी जूरी और स्टूडेंट्स ऑडियंस जूरी के मार्क्स से मैच करेंगे और ऐसे में उस एक ऑडियंस जूरी को और साथ ही उस संस्थान को फेस्टीवल ट्रॉफी से पुरुस्कृत किया जाएगा, वैसे सभी ऑडियंस जूरी को सर्टीफिकेट तो मिलेगा ही। लगभग सौ के करीब ये ऑडियंस जूरी का काऊंट है। 

ये तो सभी को विदित है कि पर्यटन विभाग उत्तर प्रदेश सरकार इस फिल्मोत्सव को प्रायोजित कर रही है और श्री देवेन्द्र खंडेलवाल की कम्पनी आय. आय. एम. सी. (इंडियन इन्फोटेन्मेट मीडिया कोरपोरेशन) वाराणसी में आयोजित कर रही है। 


दसरे दिन 93-94 फिल्मों की श्रंखला की लगभग 38 फिल्में दिखाई गईं। और प्रदर्शित इन फिल्मों में – नेपाल से आई बाइसिकल हीरो जो एक जांबाज़ साईकिल चालक की कहानी कहती है जिसने 11 साल में सायकल पर दो लाख इक्कीस हज़ार कि.मी. का सफर तय किया और पूरी दुनिया में घूमा और न जाने कितने ही खतरों से खेलना पड़ा। इस फिल्म को खूब सराहना मिली।


ब्राज़ील की - आईसलैंड, ऐन इंटरप्लैनेटरी जर्नी, सवा तीन मिनट की अवधि में ये फिल्म सुन्दर दृश्यों के साथ दर्शकों को आईसलैंड के रोमांचक पर्यटन स्थलों की सैर करा देती है। वहीं फ्रांस की एनीमेशन फिल्म – कारापथ ने भेड़चाल संस्कृति की अच्छी छवी बनाई कि कैसे एक केकड़े की खाल बदलती है तो अपने समुदाय में लीडर  बन जाता है। ईरान की सौदादे फिल्म, लड़के की चाहत में औरत को जो बच्चा पैदा करने के चक्कर में फंसना पड़ता है वह कितना कष्टकारी हो जाता है।


एक फिल्मकार सुरजीत जिनकी फिल्म रोमांस सागा ऑफ राम एंड सीता, जिसने फिस्टीवल में खूब चर्चा बटोरी है, वे भी बाकी फिल्में देख रहे हैं तो पहले दिन ही उन्होंने स्पेन की एक फिल्म वाराणसी रोड देखी और तुरन्त स्पेन के उस फिल्म के निर्देशक को सोशल साईट लिंक्ड इन पर खोजा और फिल्म की बधाई दी कि फिल्म ने उन्हें अन्दर तक झिंझोड़ दिया। कितनी सफाई से वे भारत में फैली गंदगी की बुराई भी करते हैं और साथ ही साथ भारत की संस्कृति और पर्यटन स्थलों की तारीफ़ भी करते चलते हैं। उनकी इसी बात में अपनी बात जोड़ते हुए फेस्टीवल डिरेक्टर श्रीवास नायडू ने एक चर्चा छेड़ी कि वैसे तो बात एक दिन पुरानी हो गई लेकिन इस बात की महत्ता पुरनी नहीं हो सकती। 


उन्होंने बताया कि जो मास्टर क्लास सेशन फिल्म निर्देशक प्रकाश झा ने वाराणसी के एस्पीरेंट फिल्म मेकर्स के साथ की वह अपने आप में एक बड़ा ही खुशनुमा अनुभव रहा। प्रकाश झा जी ने बड़े ही मिलनसार तरीके से युवाओं से बात की अपने अनुभव साझा किए। बात डॉक्यूमेंट्री फिल्मों से छिड़ी किसी ने कहा कि ये तो बोरिंग होती हैं। तब उन्होंने बताया कि डॉक्यूमेंट्री कितनी इंटेरेस्टिंग और एन्टरटेनिंग हो सकती है, बस उन्हें देखने समझने बनाने के तरीकों पर निर्भर करता है।



 अपनी पहली नेशनल अवॉर्ड विनिंग फिल्म दामूल के विषय में बात करते हुए उन्होंने बताया कि जब उन्होंने अपनी ये फिल्म अपनी घर पर दिखाई और पूछा तो घर की काम करने वाली नौकरानी ने सीधा कहा कि अगली बार फिल्म बनाना भैया। तब उन्होंने सोचा कि जब फिल्म जिनके विषय पर बनाई उन्हें ही पसंद न आई तो कुछ तो बदलना होगा और तब जब उन्होंने मृत्युदंड बनाई तो स्क्रिप्ट में न जाने कितने हेर फेर किए और उसे आम लोगों को भी पसंद करवा ही दिया। खैर चर्चा तो खूब हुई पर वह बात फिर कभी फिल्हाल ये जानिए कि कल क्या होगा। कल छठे सांस्कृतिक पर्यटन के अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव का समापन होगा।


समापन और पुरुस्कार वितरण समारोह की शान बढ़ाने के लिए अभिनेत्री सुश्री देबाश्री रॉय जो फेस्टीवल सेलीब्रिटी ज्यूरी की चीफ भी थीं उनके साथ सेलीब्रिटी जूरी में शामिल रहे, अभिनेता सुघिर पांडे, लेखक निर्देशक श्री रूमी जाफरी, एक्ट्रेस मोडेल सुश्री मधुरिमा तुली, निर्माता निरेदशक श्री विनोद गनात्रा, श्री अशोक कुमार बर्मन आई.ए.एस. (रि), और गेस्ट ऑफ ऑनर में प्रसिद्ध अभिनेत्री सोम्या टण्डन।


खैर समापन समारोह तो शाम साढ़े चार बजे के लिए नियत है लेकिन सुबह से उस वक्त तक फिल्मों का प्रदर्शन चलता रहेगा।  कल दिखाई जाने वाली कुछ फिल्मों का जिक्र करना बनता है।  सुबह की पहली फिल्म रहेगी एक्स्प्लोरिंग द ग्रेट इंडियन लीगेसीस, भारत की ये फिल्म भारत के G20 आदर्श वाक्य 'एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य' पर एक वैज्ञानिक संगीतमय वृत्तचित्र है, भारत के पारंपरिक ज्ञान - आयुर्वेद की अज्ञात, पृथक और अज्ञात प्रथाओं के माध्यम से यह एक यात्रा सी है..



सरबिया की सी, ओह सी फिल्म एक एनिमेटेड संगीत वीडियो है जो इच्छाओं और संभावनाओं के बीच, दुनिया की बनाई गई छवि और वास्तविकता के बीच, थोपी गई इच्छाओं और वास्तविक जरूरतों के बीच शाश्वत विसंगति से संबंधित है... कोर्न मैरिज नेपाल की फिल्म है और इसके निर्दशक भीम लाल श्रेष्ठ फिल्म की स्क्रीनिंग के समय उपस्थित रहेंगे। 


उन्होंने फेस्टीवल सेक्रेटरी मिस केतकी कपाड़िया को बताया कि उनकी फिल्म मकई विवाह जो नेपाल में गोरखा जिले की प्राकृतिक पूजा लाप्रक के रूप में फसल मक्का से विवाह करने की संस्कृति है। वहां रहने वाले लोग मक्के की शादी के बाद मक्के की खेती करते हैं। इस विश्वास के साथ कि फसलें अच्छी तरह फले-फूलेंगी। और ऐसी ही तमाम फिल्मों को देखने के लिए अगर आप उपस्थित रहेंगे तो फिल्मों का भरपूर आनन्द उठा पाएंगे।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)