बीएचयू में सेवाज्ञ संस्थानम् की ओर से आयोजित पंद्रह दिवसीय महामना महोत्सव के समापन समारोह में प्रतियोगिताओं के विजेता हुए पुरस्कृत

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी। संसार में हर व्यक्ति असाधारण है। उपयोगिता के आधार पर प्रकृति ने उनकी रचना की है। खुद की प्रतिभा को निखारने के लिए हर दिन आत्ममूल्यांकन जरूरी है। दूसरों से तुलना से बचना चाहिए। यह कहना है हनुमत निवास अयोध्या के महंत मिथिलेश नंदिनी महाराज का। वह मंगलवार को बीएचयू के स्वतंत्रता भवन में आयोजित महामना महोत्सव समापन समारोह को बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे।


सेवाज्ञ संस्थानम् की ओर से आयोजित समारोह में महंत ने कहा कि संकल्प की सिद्धि साधन से नहीं ,पवित्र अंतःकरण से होता है। साधन की चिंता छोड़कर जीवन में प्रतिज्ञा धारण करनी चाहिए। संकल्प की सिद्धि के कारण ही मदन मोहन समाज में महामना के रुप में पूज्यनीय बने। कहा कि अभिभावकों को बच्चों के प्रतिभा को पहचान चाहिए और उन्हें संबंधित क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करना चाहिए। एक सवाल पर महंत मिथिलेश नंदिनी महाराज ने कहा कि ब्रह्मचर्य की रक्षा के लिए सूचना के ज्वार से बचना होगा।


 एकाग्रता पाने के लिए खुद से कनेक्ट होना होगा। विश्व में काशी हिंदू विश्वविद्यालय की ख्याति अद्वितीय है। यह विश्वविद्यालय दुनिया में भारत का सिरमौर है। कहा काशी खाक को चंदन बना देती है। संसार के माथे की अलंकार बना देती है। काशी में मरण में मंगल है। त्रिलोक में काशी अतुलनीय है।विशिष्ट अतिथि संस्था के राष्ट्रीय सचिव डॉ लोकेश चंद्र ने कहा कि युवाओं को लक्ष्य के प्रति निष्ठावान होना चाहिए। खुद को पहचान कर लक्ष्य का निर्धारण करना चाहिए। अध्यक्षता कर रहे उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा चयन बोर्ड के पूर्व सदस्य डॉ हरेंद्र कुमार ने महामना के दृष्टिकोण में समग्रता है।आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में महामना के दृष्टिकोण प्रासंगिक है। समारोह में कोमल बिंद, भूमिका, अंशिका आदि ने सवाल पूछे। महंत विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किए।जिज्ञासाओं को शांत किया। संचालन डॉ कुमकुम पाठक ने किया। इस मौके पर डॉ अनुपम कुमार नेमा, डॉ आनंद प्रभा सिंह, डॉ चारुचंद्रराम त्रिपाठी, डॉ प्रतिभा यादव, नीति जायसवाल, डॉ गिरीश त्रिपाठी, डॉ जयप्रकाश, आशुतोष मौजूद रहे।



 इनसेट कार्यक्रम संयोजक डॉ हरेंद्र राय ने बताया कि महामना महोत्सव के तहत विभिन्न स्थानों पर 10 प्रतियोगिताएं हुईं।प्रतियोगिताओं में पांच हजार विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। विजेताओं को मंगलवार को स्वतंत्रता भवन बीएचयू में आयोजित समापन समारोह में पुरस्कृत किया गया। परिणाम इस प्रकार है। भाषण- वैष्णव तृतीय, नैना, द्वितीय ,निबंध- अनन्या सामंत तृतीय,अवनीश तिवारी द्वितीय, प्रथम निशा जायसवाल ,काव्य -दिव्यांशी चक्रवाल, ऋचा, सिंह , इशिता दूबे ,गीतापाठ-पति मिश्रा तृतीय, सुकृति कुमारी द्वितीय, सुनैना प्रथम, 

सूर्य नमस्कार - बालक वर्ग ओमप्रकाश, ऋतिकराज, आशुतोष पाल, बालिका वर्ग, अन्विशा सोनकर तृतीय , इशिता विश्वकर्मा द्वितीय, वंदिता विश्वकर्मा प्रथम, 

दौड़ बालक 100 मी जूनियर वर्ग- शुभम यादव तृतीय , साहिल सैनी द्वितीय, अनुज कसेरा प्रथम,सीनियर वर्ग- विशाल राय तृतीय, पवन कुमारद्वितीय, रवि राजभर प्रथम,बालिका वर्ग 100 मीटर दौड़ जजूनइयर वर्ग - साक्षी मौर्य तृतीय, निधि कुमारी,प्रियंका,केशरी,सीनियर वर्ग मुस्कान प्रजापति तृतीय, मुस्कान पाल द्वितीय, सोनाली प्रथम बालक 200 मीटर दौड़ जूनियर वर्ग, धनंजय जायसवाल प्रथम, पवन यादव द्वितीय, अनूप यादव प्रथम बालक सीनियर वर्ग 200 मीटर दौड़- विशाल राय तृतीय, पवन , रवि राजभर

200 मीटर बालिका जूनियर वर्ग - साक्षी मौर्य तृतीय, निधि कुमारी द्वितीय, स्वाति पटेल प्रथम बालिका 200 मीटर दौड़ सीनियर वर्ग - मुस्कान पाल तृतीय, सोनाली द्वितीय, आराध्या प्रजापति प्रथम 

400 मीटर दौड़ बालक जूनियर वर्ग- आर्यन राजभर, शुभम यादव द्वितीय , नवनीत यादव प्रथम,सीनियर वर्ग 400 मीटर दौड़,ऋषिराज सिंह इशान गुप्ता,निखिल पाल 400 मी दौड़ बालिका जूनियर वर्ग -शिवानी वर्मा तृतीय,प्रिया कुमारी द्वितीय , काजल पटेल प्रथम 400 मीटर बालिका सीनियर वर्ग-नैनसी विश्वकर्मा, रानी सोनकर,आराध्या शतरंज बालक जूनियर वर्ग - आदित्य राज तृतीय ,मोनिक द्वितीय,आर्यन प्रथम शतरंज बालक सीनियर वर्ग, अनुज तृतीय,प्रज्ञ तिवारी द्वितीय, दिव्यांशू दूबे प्रथम

शतरंज बालिका जूनियर वर्ग अंशिका तृतीय,खुशी द्वितीय,प्रज्ञान प्रथम चित्रकला-अनमोल पांडेय तृतीय, रिंकी मौर्य द्वितीय एस नंदिनी प्रथम,विज्ञान प्रदर्शनी-अतुल कुमार तृतीय, साहिल वर्मा द्वितीय, रोहन राज प्रीतम प्रथम।प्रश्नोत्तरी - मानसी वर्मा तृतीय शुभम त्रिगुण द्वितीय प्रियांशु दूबे प्रथम

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)