सनातनी संस्था ब्रह्म राष्ट्र एकम द्वारा काशी से श्रीलंका तक निकाली गई श्री राम पग यात्रा

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी।ज्ञातव्य हो कि ब्रह्म राष्ट्र एकम द्वारा श्री राम पग यात्रा निकाली जा रही है।संस्था समेत सभी राम भक्तों का पिछले कई महीनो के प्रयास का आज आगाज़ हुआ। आज काशी की सनातनी संस्था ब्रह्मराष्ट्र एकम काशी स्थित संकट मोचन मंदिर से प्रभु हनुमान जी का आशीर्वाद लेकर व हरी झंडी दिखाकर यात्रा अयोध्या के लिए रवाना हो गई है।


जैसा कि सभी को ज्ञातव्य है कि ब्रह्म राष्ट्र एकम  प्रभु श्री राम लला के प्राण प्रतिष्ठा होने के उपलक्ष्य में अयोध्या से श्री लंका तक 45 दिवसीय श्री राम पग यात्रा आयोजित कर रहा है।45 दिवसीय यह यात्रा दिनांक 2 फरवरी 2024 से 17 मार्च तक की जाएगी। इस संस्था द्वारा अनवरत धार्मिक, सांस्कृतिक ,व सामाजिक कार्य किए जाते हैं। इसी कड़ी में 22 जनवरी 2024 में अयोध्या में प्रभु श्री राम लला के प्राण प्रतिष्ठा की खुशी में यह यात्रा भव्य रूप से उत्सव के रूप में निकाली गई।

यह यात्रा किसी भी राजनीतिक दलों का समर्थन नही करता बल्कि  प्रभु श्री राम के प्रति आस्था और भक्ति का प्रतीक है। इस यात्रा में हजारों की संख्या में भक्तगण शामिल हुए। यात्रा काशी से शुरू होकर अयोध्या,श्रृंगवेरपुर , प्रयागराज,चित्रकूट , सतना, नागपुर,नासिक , कर्नाटक, लेपाक्षी,तमिलनाडु मदुरै के रास्ते होते हुए श्री लंका तक जाएगी पुनः वापस मदुरै , बैंगलोर,मुंबई,बड़ोदरा , सोमनाथ,अहमदाबाद , जयपुर,नई दिल्ली,मथुरा, आगरा,लखनऊ,के रास्ते होते हुए काशी (वाराणसी) में विराम देगी। इस यात्रा का नेतृत्व व मुख्य आयोजक कर्ता डॉ सचिन सनातनी हैं। इस यात्रा के मुख्य यात्रीगण पूज्य गुरु दिवाकर द्विवेदी 

रविन्द्र नाथ मिश्र,कुशाग्र मिश्र,चेतन उपाध्याय(सत्या फाउंडेशन),विजय त्रिपाठी, धर्मेंद्र त्रिपाठी,डॉ के न पाण्डेय,संतोषकश्यप,कमलेश शुक्ला,अनिल सिंह,राजू राजभर आदि जनमानस लोग हैं। यह यात्रा किसी भी राजनीतिक दल का समर्थन नहीं करती बल्कि स्वायत्त व्यवस्था के अंतर्गत कार्य करती है। इस यात्रा का संकल्प राष्ट्र को एकता अखंडता और समानता के सूत्र में बांधने का प्रयास है। संस्था का उद्देश्य सभी जाति , वर्ग,और संप्रदाय के लोगो को एकता के सूत्र में बांधने का सतत प्रयास है। यह यात्रा केवल और केवल प्रभु श्री के प्रति आस्था का प्रतीक है

Tags:

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)