राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा चलाया गया सफाई अभियान

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के मानवीकीय संकाय में राष्ट्रीय सेवा योजना की तरफ से सोमवार को एक दिवसीय स्वच्छ्ता शिविर का आयोजन किया गया,कार्यक्रम में मुख्य अतिथि एन.एस.एस. समन्वयक डॉ. रविंद्र कुमार गौतम ने कहा राष्ट्रीय सेवा योजना में स्वयंसेवक को दो साल की अवधि में कुल 240 घंटे की सामाजिक सेवा समर्पित करना आवश्यक है।


उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्म शताब्दी 24 सितम्बर 1969 में राष्ट्रीय सेवा योजना इस आशय के साथ प्रारम्भ किया गया कि उच्च शिक्षा से जुड़े विद्यार्थियों में सामाजिक दायित्व, चेतना, स्वप्रेरित अनुशासन के साथ श्रम के प्रति सम्मान की भावना उत्पन्न हो। इस कड़ी में मुख्य वक्ता प्रोफेसर आनंद शंकर चौधरी ने कहा स्वैच्छिक सामुदायिक सेवा के माध्यम से युवाओं के व्यक्तित्व और चरित्र का विकास करना इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य है। 'सेवा के माध्यम से शिक्षा' यह एनएसएस का उद्देश्य है। अगले वक्ता के रूप में डॉ. आशुतोष त्रिपाठी ने कहा कि एन.एस.एस. का मुख्य उद्देश्य छात्रों के व्यक्तित्व और चरित्र के विकास के साथ-साथ राष्ट्र सेवा के लिए उन्हें जागरूक करना है,डॉ.मनोहर लाल ने कहा कि एन.एस.एस का आदर्श वाक्य ‘मैं नहीं,बल्कि आप’ है, जो लोकतांत्रिक भावना को दर्शाता है। इसकी वैचारिक अवधारण महात्मा गांधी के आदर्शों से प्रेरित है। 



जिसमें जन-जन का और समाज का कल्याण निहित है। कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अंजना वर्मा,डॉ. शैलेश कुमार एवं डॉ.वीणा वादिनी के नेतृत्व में शिविर में शासन के निर्देश के क्रम में स्वच्छता जागरूकता का कार्यक्रम चलाया गया। साथ ही कार्यक्रम अधिकारी एवं छात्र-छात्राओं ने मानविकीय संकाय परिसर में स्थित जे.के. महिला छात्रावास, प्रेस एवं प्रशासन विभाग तथा कर्मचारी आवास के सामने साफ सफाई का कार्यक्रम किया। छात्र-छात्राओ ने "एन एस एस ने ठाना है, विद्यापीठ स्वच्छ बनाना है। एन एस एस ने ठाना है, काशी स्वच्छ बनाना है"एन एस एस ने ठाना  है, भारत स्वच्छ बनाना है। जैसे नारों के साथ रैली निकाली एवं परिसर की साफ-सफाई की। शिविर का संचालन डॉ. अंजना वर्मा एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. वीणा वादिनी ने किया ।

Tags:

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)