माफिया नेता मुख्तार अंसारी के मौत के बाद सीएम योगी ने बुलाई बैठक, प्रदेश में धारा 144 लागू

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

लखनऊ। माफिया से नेता बने मुख्तार अंसारी की बृहस्पतिवार को बांदा मेडिकल कॉलेज में दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। तबीयत बिगड़ने के बाद अंसारी को जिला जेल से अस्पताल लाया गया था। बांदा मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य सुनील कौशल ने बताया, "मेडिकल कॉलेज में दिल का दौरा पड़ने से अंसारी की मौत हो गई।"



मुख्तार अंसारी के निधन के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर बैठक जारी है। यह बैठक करीब डेढ़ घंटे से जारी है। इस बैठक में राज्य के DGP और ADG मौजूद थे। इससे पहले प्रमुख सचिव सूचना संजय प्रसाद ने इस बात की पुष्टि की थी कि अंसारी को तबीयत खराब होने के कारण दोबारा अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


मुख्तार अंसारी के निधन के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर बैठक जारी है। यह बैठक करीब डेढ़ घंटे से जारी है। इस बैठक में राज्य के DGP और ADG मौजूद थे। इससे पहले प्रमुख सचिव सूचना संजय प्रसाद ने इस बात की पुष्टि की थी कि अंसारी को तबीयत खराब होने के कारण दोबारा अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


धारा 144 लागू की गई ॥


सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि प्रदेश में कोई अप्रिय घटना न होने पाए। पुलिस को अतिरिक्त चौकसी बरतने के आदेश दिए गए हैं। वहीं, मुख्तार अंसारी की मौत के बाद यूपी के कई जिलों म धारा 144 लागू कर दी गई है।


बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था॥


मुख्तार अंसारी की हार्ट अटैक से मौत के बाद बुलंदशहर में बढ़ाई सुरक्षा व्यवस्था गई है। एसएसपी श्लोक कुमार सहित सड़कों पर पुलिस के अधिकारी उतरे हुए हैं। शहर के मुख्य चौराहे सहित कस्बो में पुलिस कर सघन चेकिंग रही है। सभी थानों के थाना प्रभारी व चौकी इंचार्ज चेकिंग कर रहे हैं। वाहनों की तलाशी के बाद ही आगे जाने दिया जा रहा है।



अस्पताल में मुख्तार अंसारी के मौत की खबर सुनते ही उसके परिजनों में कोहराम मच गया। मऊ जिला स्थित मुख्तार के मकान के पास सैकड़ों समर्थकों की भीड़ इकट्ठी हो गई। रात करीब तीन बजे मुख्तार का परिवार बांदा स्थित रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज पहुंचेगा।


सूचना आ रही है कि देर रात परिवार की उपस्थिति में ही मुख्तार का पोस्टमार्टम किया जाएगा। उसके बाद शव को गाजीपुर ले जाया जाएगा। दूसरी तरफ, प्रशासन ने मुख्तार अंसारी का शव उसके गृह जनपद मऊ लाने के लिए रुट प्लान तैयार कर लिया है। उसके काफिले में कुल 26 गाड़ियां शामिल रहेंगे।


मुख्तार अंसारी की मौत को पप्पू यादव ने बताया 'हत्या'


अपराध और राजनीति की दुनिया का बड़े नाम रहे मुख्तार की मौत पर सियासत भी तेज हो गई है। यूपी से बिहार तक इस पर राजनीति होने लगी है। कांग्रेस नेता पप्पू यादव ने भी मुख्तार अंसारी की मौत पर सवाल खड़े कर दिए हैं। पप्यू यादव ने मुख्तार अंसारी की मौत को 'हत्या' करार दिया है।



हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए पप्पू यादव ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए विवादित टिप्पणी की। उन्होंने इसे संस्थानिक हत्या बताते हुए कहा कि यह कानून, संविधान, नैसर्गिक न्याय को दफन कर देने जैसा है। पप्पू यादव ने लिखा, 'पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी जी की सांस्थानिक हत्या। कानून, संविधान, नैसर्गिक न्याय को दफन कर देने जैसा है।'


पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी जी की सांस्थानिक हत्या,क़ानून, संविधान, नैसर्गिक न्याय को दफन कर देने जैसा है।




मुख्तार अंसारी की मौत पर तेजस्वी यादव ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने एक्स पर लिखा, 'यूपी से पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी के इंतकाल का दुःखद समाचार मिला। परवरदिगार से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति तथा शोकाकुल परिजनों को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें। कुछ दिन पूर्व उन्होंने शिकायत की थी कि उन्हें जेल में जहर दिया गया है फिर भी इसे गंभीरता से नहीं लिया गया। ये न्यायसंगत और मानवीय नहीं है। संवैधानिक संस्थाओं को ऐसे विचित्र मामलों व घटनाओं पर स्वतः संज्ञान लेना चाहिए।'


यूपी से पूर्व विधायक श्री मुख्तार अंसारी के इंतकाल का दुःखद समाचार मिला। परवरदिगार से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति तथा शोकाकुल परिजनों को दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें।


कुछ दिन पूर्व उन्होंने शिकायत की थी कि उन्हें जेल में जहर दिया गया है फिर भी गंभीरता से नहीं लिया...



बांदा जेल में बंद माफिया सरगना मुख्तार अंसारी की गुरुवार रात दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। रानी दुर्गावती मेडिकल कॉलेज के सूत्रों ने बताया कि अंसारी को रात करीब साढ़े 8 बजे नाजुक हालत में अस्पताल लाया गया था। उपचार के दौरान उसकी सेहत बिगड़ती चली गई और दिल का दौड़ा पड़ने से उसकी मौत हो गई। माफिया की मौत के बाद एहतियात के तौर पर बांदा, गाजीपुर और मऊ में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई। तीनों ही जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई।


बता दें की, मुख्तार पिछले करीब ढाई साल से बांदा जेल में बंद था। उसके खिलाफ 64 से अधिक मुकदमे दर्ज है जिसमें से कुछ समय पहले एक में उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। मेडिकल कालेज अस्पताल ने एक मेडिकल बुलेटिन जारी कर मुख्तार की मौत की पुष्टि की है। अस्पताल की ओर से बताया गया कि 63 वर्षीय मुख्तार को रात 8 बजकर 25 मिनट पर उल्टी की शिकायत पर बेहोशी की हालत में लाया गया था। 8 डॉक्टरों की टीम ने उसका इलाज शुरू किया मगर भरसक प्रयास के बावजूद दिल का दौड़ा पड़ने के कारण मरीज की मौत हो गई।



मुख्तार अंसारी को जहर देने का लगया गया था आरोप बताते चलें कि सोमवार की रात मुख्तार मुख्तार को पेट दर्द की शिकायत पर मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया था।जहां डॉक्टर ने उसे कब्ज बताकर एनिमा लगाया था। उसे 14 घंटे तक मेडिकल कॉलेज में रखकर मंगलवार देर शाम जेल में शिफ्ट कर दिया गया था। जिस दिन मुख्तार की हालत बिगड़ी थी, उस दिन परिवार के लोग भी उसे देखने आए थे। यहां मीडिया के समक्ष मुख्तार के बेटे उमर अंसारीऔर भाई अफजाल अंसारी ने खाने में मुख्तार को जहर देने का आरोप लगाया था। इसके पहले मुख्तार के वकील ने बाराबंकी कोर्ट में भी मुख्तार के हवाले से खाने में जहर देने का आरोप लगाया था, लेकिन जेल का प्रशासन इन आरोपों को खारिज कर दिया था। अब उनकी मौत से तमाम तरह के सवाल उठ रहे हैं जिसका जवाब कोई नहीं दे पा रहा है।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)