जलवायु परिवर्तन एवं किसानों के बेहतर आजीविका पर चर्चा हेतु वाराणसी स्थित इर्री केंद्र में समन्वयक बैठक में शामिल हुए भारत, बांग्लादेश, श्रीलंका और नेपाल के प्रतिनिधि

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी। भारत, बांग्लादेश, श्रीलंका और नेपाल के कृषि विभागों के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी 7वीं आइसार्क समन्वय समिति (आईसीसी) की बैठक के लिए गुरुवार को इरी दक्षिण एशिया क्षेत्रीय केंद्र (आइसार्क), वाराणसी में एकत्र हुए। इस बैठक की अध्यक्षता इरी के अंतरिम महानिदेशक डॉ. अजय कोहली सह-अध्यक्षता मनोज आहूजा, सचिव, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, कृषि


एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार ने की।उनके अलावा बैठक में परितोष हाजरा, संयुक्त सचिव (आईसी), कृषि मंत्रालय, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ बांग्लादेश सरकार (सुश्री वहीदा अख्तर सचिव, कृषि मंत्रालय, पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ बांग्लादेश सरकार का प्रतिनिधित्व करते हुए ) डॉ. गोविंदा प्रसाद शर्मा, सचिव (कृषि) विकास), कृषि और पशुधन विकास मंत्रालय, नेपाल सरकार, काठमांडू; डॉ. मोहम्मद हारुनूर रशीद, निदेशक, सार्क कृषि केंद्र (एसएसी); डॉ. तिलक राज शर्मा, उप महानिदेशक (फसल विज्ञान), भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर), भारत सरकार, नई दिल्ली, भारत; डॉ. एमपी यादव, एनएसआरटीसी (मनोज कुमार, निदेशक, राष्ट्रीय बीज अनुसंधान और प्रशिक्षण



 केंद्र (एनएसआरटीसी), वाराणसी, यूपी, भारत का प्रतिनिधित्व); डॉ. सुधांशु सिंह, निदेशक, आइसार्क उपस्थित रहे। उत्तर प्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान, कृषि विपणन, अंतर्राष्ट्रीय कृषि व्यापार एवं निर्यात प्रोत्साहन डॉ. देवेश चतुर्वेदी एवं आईआरआरआई एशिया के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. जोंगसू शिन ने बैठक में ऑनलाइन भाग लिया।



श्रीलंका सरकार के क्षेत्रीय चावल अनुसंधान एवं विकास केंद्र की क्षेत्रीय निदेशक सुश्री आर.एफ. हफ़ील; डॉ. दिलीप कुमार श्रीवास्तव भारतीय कृषि मंत्रालय के उपायुक्त (गुणवत्ता नियंत्रण);  भारतीय कृषि मंत्रालय के उप सचिव (बीज) मोनी सुंदर बनर्जी विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में बैठक में शामिल हुए। इस बैठक में उपस्थित रहने के लिए सीओसीओ सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए डॉ. अजय कोहली ने कहा कि आईएसएआरसी दक्षिण एशियाई क्षेत्र में चावल आधारित कृषि-खाद्य प्रणाली को बदलने से संबंधित सभी शोधों के लिए एक साक्ष्य-आधारित अनुसंधान केंद्र के रूप में उभर रहा है। 



उन्होंने कहा, “ मीथेन उत्सर्जन चावल की खेती का एक अभिन्न हिस्सा है, जिसका सीधा दुष्प्रभाव हमारी जलवायु पर पड़ता है| इस वर्ष हमारा मुख्य उद्देश्य कम मीथेन उत्सर्जन में सक्षम कम अवधि वाली चावल की किस्मों का विकास करना है| इसके साथ ही, हम बेहतर कृषि पद्यतियों का भी विकास कर रहे है जिससे कम पानी एवं कम मीथेन उत्सर्जन के बाद भी किसानों को बेहतर उपज प्राप्त हो सके| धान की सीधी बुवाई (डी.एस.आर) एवं अल्टरनेट वेट एंड ड्राइंग (AWD) कुछ ऐसी ही कृषि पद्यतियां हैं जिन्हें इरी के द्वारा किसानों तक पहुँचाया जा रहा है|”



 डॉ. कोहली ने ISARC को अपना समर्थन देने के लिए भारत, बांग्लादेश, नेपाल और श्रीलंका की सरकारों और इनमें से प्रत्येक देश में NARES भागीदारों को भी धन्यवाद दिया।आईसीसी के सह-अध्यक्ष के रूप में मनोज आहूजा ने चावल अनुसंधान और विकास के क्षेत्र में आइसार्क द्वारा की गई उल्लेखनीय उपलब्धियों और प्रगति की जमकर सराहना की । अपने संबोधन में उन्होंने कहा, “आइसार्क ने इस वर्ष के दौरान अनुसंधान, विस्तार, क्षमता विकास और प्रौद्योगिकी प्रसार में अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया है, 



जिससे हमारे कृषि परिदृश्य के सामने आने वाली गंभीर चुनौतियों का समाधान करने के लिए ठोस समाधान सामने आए हैं।” अल्ट्रा-लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स चावल की किस्मों , स्पीड ब्रीडिंग प्रोटोकॉल, डी.एस.आर., सीड्स विदाउट बॉर्डर जैसी कुछ उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने राष्ट्रीय भागीदारों से आइसार्क के तकनीकी समर्थन के माध्यम से अपने संबंधित क्षेत्रों में इन नवाचारों को दोहराने का आग्रह किया। 2023 की कुछ प्रमुख उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए आइसार्क, वाराणसी के निदेशक डॉ. सुधांशु सिंह ने कहा, “पिछले वर्ष में हमारे केंद्र ने अनुसंधान, विस्तार, प्रौद्योगिकी प्रसार और क्षमता विकास में महत्वपूर्ण प्रगति की है। हमने क्षेत्र में चावल आधारित कृषि-खाद्य प्रणालियों को बदलने के लिए चावल अनुसंधान और विकास को आगे बढ़ाने के लिए अपनी साझेदारी को मजबूत किया है। 



सीड्स विदाउट बॉर्डर के माध्यम से, हम नेपाल और बांग्लादेश जैसे पड़ोसी देशों के बीच उन्नत फसल किस्मों के आदान-प्रदान की सुविधा को सहयोग प्रदान कर रहें हैं|जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने के लिए आइसार्क की प्रतिबद्धता जाहिर करते हुए डॉ. सुधांशु सिंह ने कहा, “हम जलवायु परिवर्तन की आसन्न चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार हैं। कृषि संबंधी पद्यतियों के विकास और प्रचार के साथ-साथ, आइसार्क जीएचजी उत्सर्जन में कमी लाने में मदद करने वाली कुछ छोटी अवधि की किस्मों जैसे डीआरआर 42, डीआरआर 44, डीआरआर 46, बीना धान 11, और सहभागी धान आदि  पर भी काम कर रहा है। इर्री के वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने उपस्थित प्रतिनिधियों के सामने इकाई-विशिष्ट प्रगति और भविष्य की योजनाएं प्रस्तुत कीं। इसके बाद आगामी वर्ष के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए रणनीतियों की योजना बनाने के लिए सभी उपस्थित गणमान्यों ने चर्चा की |



 बैठक के समापन में इर्री एशिया के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. जोंगसू शिन ने सबका धन्यवाद ज्ञापन किया। मनोज आहूजा, सचिव, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार ने इस बैठक में उपस्थित सभी गणमान्यों के साथ केंद्र में कर्मचारियों हेतु एक व्यायामशाला (जिम) का उद्घाटन भी किया। आइसार्क की समन्वयक बैठक आइसार्क की समन्वयक बैठक एक वार्षिक क्रिया है जिसमे पिछले वर्ष के कार्य, आगामी वर्ष की योजना पर चर्चा करने और पिछली बैठक के दौरान सुझाए गए कार्य बिंदुओं पर चर्चा की जाती हैं| 2023 के दौरान की जाने वाली कार्रवाइयों के कुछ व्यापक क्षेत्र थे:



जलवायु-लचीला और तनाव-सहिष्णु चावल की किस्मों को विकसित करके और एक मजबूत बीज प्रणाली और विस्तार गतिविधियों के माध्यम से किसानों को हस्तांतरित करके जलवायु परिवर्तन और इसकी चुनौतियों का समाधान करना।दक्षिण एशिया क्षेत्र में पोषण से भरपूर, जिंक और आयरन से युक्त बायोफोर्टिफाइड, कम और अल्ट्रा लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) चावल की किस्मों का विकास और प्रसार। व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य स्टार्ट-अप को समर्थन देने और बनाने के लिए चावल मूल्य श्रृंखला और प्रसंस्करण प्रणाली का विकास और विस्तार करना। क्षेत्र के विभिन्न चावल-परती क्षेत्रों में हस्तक्षेप की आवश्यकता और फसलों में विविधता लाकर चावल परती क्षेत्रों के दोहन का समर्थन करना।



राइस क्रॉप मैनेजर (आरसीएम) और राइस डॉक्टर जैसे अनुप्रयोगों की गहरी पैठ के साथ कृषि के डिजिटलीकरण को बढ़ाना और कृषि में ड्रोन-आधारित फेनोटाइपिंग हस्तक्षेप, कीट और रोग निगरानी, सटीक उर्वरक प्रबंधन, जीआईएस का उपयोग, रिमोट सेंसिंग जैसे डिजिटल समाधानों को बढ़ावा देना। बड़े डेटा विश्लेषण, आदि। दक्षिण एशिया में इसके उपयोग को बढ़ाने के लिए नैनो यूरिया का मूल्यांकन करना।मृदा स्वास्थ्य में सुधार और कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए पुनर्योजी कृषि को मजबूत करना, उर्वरक उपयोग दक्षता और कार्बन-बाजार विकसित करना।  संकर चावल विकास कार्यक्रम को सुदृढ़ एवं सुव्यवस्थित करना।



चावल से परे सीड्स विदाउट बॉर्डर (एसडब्ल्यूबी) पहल का विस्तार करना और समझौते में अधिक हस्ताक्षरकर्ताओं को जोड़ना।

निवेश के अवसरों के लिए सरकारों, विशेषकर नेपाल की सरकारों के साथ जुड़ाव बढ़ाना।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)