राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के हाथों जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. पीयूष राय को मिला प्रशस्ति पत्र

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

वाराणसी:आयुष्मान भवः सेवा पखवाड़ा के शुभारंभ पर राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम व प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के अंतर्गत बेहतर प्रदर्शन करने को लेकर वाराणसी को प्रदेश स्तर पर सम्मानित किया गया।


 रविवार को लखनऊ राज भवन आयोजित आयुष्मान भवः समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने वाराणसी के जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. पीयूष राय को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस मौके पर राज्य मंत्री चिकित्सा शिक्षा व स्वास्थ्य मयंकेश्वर शरण सिंह, प्रमुख सचिव पार्थ सारथी सेन शर्मा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।आयुष्मान भवः अभियान एवं क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत वाराणसी ने प्रदेश में 84.5 प्रतिशत स्कोर प्राप्त किया है। इस उपलब्धि से वाराणसी को 10वां स्थान प्राप्त हुआ है। 


जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ पीयूष राय ने बताया कि इस साल अब तक लक्ष्य के सापेक्ष 72 प्रतिशत टीबी मरीजों का नोटिफिकेशन सरकारी चिकित्सा इकाइयों में किया जा चुका है। इसी क्रम में 59 प्रतिशत टीबी मरीजों का नोटिफिकेशन निजी क्षेत्र में किया जा चुका है। इस तरह देखा जाए तो लक्ष्य के सापेक्ष अब तक कुल 67 प्रतिशत टीबी मरीजों को नोटिफ़ाई किया जा चुका है। 99 प्रतिशत ऐसे व्यक्ति हैं जिनकी एचआईवी एवं डायबिटीज़ जांच की गई। कुल मरीजों में से 90 प्रतिशत बैक्टीरियोलॉजी के द्वारा पुष्टि किए गए रोगियों की यूनिवर्सल ड्रग ससेप्टिबिलिटी टेस्टिंग (यूडीएसटी) के लिए जांच की गई। 

वर्तमान में जनपद का टीबी सक्सेस रेट 91 प्रतिशत चल रहा है। निक्षय पोषण योजना के अंतर्गत 81 प्रतिशत लाभार्थियों को हर माह 500 रुपये सीधे मरीजों के बैंक खाते में पहुंचाई जा चुकी है। 77 प्रतिशत ड्रग रेजिस्टेंट टीबी (डीआरटीबी) मरीजों का तत्काल प्रभाव से उपचार शुरू किया गया। पाँच वर्ष से कम उम्र के 91 प्रतिशत बच्चों को कीमोप्रोफाइललैक्सिस थेरेपी दी जा रही है। 72 प्रतिशत ऐसे टीबी मरीज जिन्हें टीबी प्रिवेंटिव थेरेपी (टीपीटी) दी जा रही है। 

इस तरह देखा जाए तो वाराणसी का कुल स्कोर 84.5 प्रतिशत है,डॉ पीयूष ने कहा कि जनपद में 2447 निक्षय मित्रों का पंजीकरण हो चुका है। वर्तमान मे कुल 7770 क्षय रोगी उपचार पर हैं।इसमें 6570 क्षय रोगियों को निक्षय मित्रों द्वारा गोद लिया जा चुका है। शेष टीबी रोगियों के गोद लिए जाने की प्रक्रिया चल रही है। यह सभी क्षय रोगी निक्षय मित्रों से जुड़े हुये हैं। 

पिछले एक माह में निक्षय मित्रों के द्वारा गोद लिए गए करीब 2442 मरीजों को पोषण पोटली प्रदान की जा चुकी है। अक्टूबर 2022 से अबतक हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर स्तर पर करीब 6758 पोषण पोटली प्रदान की चुकी हैं। निक्षय मित्रों के द्वारा अक्टूबर 2022 से अब तक 167 पोषण पोटली का वितरण क्षय रोगी के घर पर किया जा चुका है। इस तरह देखा जाए तो अब तक कुल 7790 पोषण पोटली क्षय रोगियों को प्रदान की चुकी हैं।


उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी एस राजलिंगम, सीडीओ हिमांशु नागपाल और सीएमओ डॉ संदीप चौधरी के निर्देशन में विभाग और एनटीईपी के समस्त स्टाफ पूरी लगन, जोश और उत्साह के साथ कार्य किया जा रहा है। हमारी प्राथमिकता है कि वर्ष 2025 तक देश को टीबी मुक्त कर लिया जाए। इस दौरान वाराणसी के अलावा नौ जनपदों को भी सम्मानित किया गया।

***********************************

बेख़ौफ़  खबर भारत न्यूज़

                              बृजेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)