समाजिक संस्था मां फाउंडेशन ने 51 महिलाओं को किया "वीरांगना महारानी लक्ष्मी बाई" सम्मान से सम्मानित

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

 

वाराणसी।  काशी की कला मणिकर्णिका आरव्य मनु और झांसी की महारानी लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में मार्गशीर्ष कृष्ण चतुर्दशी को मणिकर्णिका घाट परिसर स्थित बाजीराव घाट क्षेत्र में पेशवा बाजीराव के महल में हुआ था। काशी में जन्म स्थान को लेकर उत्पन्न किया गया भ्रम निरर्थक है और इस भ्रम का निवारण पंचांग गणना के जानकार करने में सर्वर्थ समर्थ है। उक्त विचार नयी सडक स्थित सनातन धर्म इंटर कॉलेज के सभा कक्ष मां फाउंडेशन उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में आयोजित जन्म तिथि के अवसर पर आयोजित सम्मान समारोह में वक्ताओं के कहीं।


प्रारंभ में मुख्य अतिथी महंत गोविन्द दास शास्त्री,कबीर परकाटय स्थली लहरतारा द्वारा लक्ष्मीबाई और छत्रपति शिवाजी महाराज के चित्र के सामने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।


इस अवसर पर डॉ सोहनलाल आर्य ने कहा कि मणिकर्णिका परिसर में जन्म के कारण ही उनका नाम मणिकर्णिका बाई पड़ा, संस्कृति भारती के संस्थापक  व संयोजक डा उपेंद्र विनायक सतबुद्धे के जन्मस्थान और जन्म तिथि सहित  दोनो की तारीख पर जीवन परिचय के साथ विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम संयोजक व संचालन फाउंडेशन के प्रदेश अध्यक्ष लाल जी गुप्ता ने किया।


कार्यक्रम की अध्यक्षता महिला व्यापार मंडल की अध्यक्ष श्रीमती शालिनी गोस्वामी ने किया। सम्मान समारोह में सम्मानित किए जाने वालो में मुख्य रूप से रेखा पाठक, लक्ष्मी आर्या, सीता साहू, मंजू व्यास, रश्मि साहू,  अनीसा साही, मीरा गुप्ता, सोनी खान, पूनम जायसवाल, ज्योत्सना बाजपेई, मंजू वर्मा आदि समेत 31 महिलाओं को सम्मानित किया गया, साथ ही महारानी लक्ष्मीबाई के महान तोपची गौश खां सम्मान से शकील अहमद को सम्मानित किया गया।


कार्यक्रम में मुख्य रूप से गिरीश श्रीवास्तव, सौरभ दीक्षित, अमित सौरभ, धर्मेंद्र गुप्ता, राजेश गुप्ता,  अरविंद, संजय कुशवाहा, किरण केसरी, विकास शाह सोनू,  अखिलेश नारायण सिंह सहित  सैकड़ो गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)