"जो राम का नहीं किसी काम का नहीं "नारे के साथ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस का दामन छुड़ा

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

कोटा । कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व द्वारा अयोध्या राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का निमंत्रण ठुकराने का असर धीरे-धीरे नजर आ रहा है। कई जगह पार्टी को इसका नुकसान उठाना पड़ रहा है। कोटा में राम मंदिर का निमंत्रण ठुकराए जाने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के तीखे तेवर देखने को मिले। यहां कांग्रेस के कई पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने पार्टी के इस फैसले से नाराज होकर कांग्रेस को अलविदा कह दिया है।


कांग्रेस छोड़ने वाले कार्यकर्ता और पदाधिकारियों का कहना है कि वे अब सनातन धर्म के लिए काम करेंगे। कांग्रेस आलाकमान के राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के न्यौता ठुकराने के बाद यूथ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश सचिव और वर्तमान में देहात कांग्रेस के मीडिया प्रभारी कंवर सिंह चौधरी ने अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस का दामन छोड दिया



*जो राम का नहीं वह किसी काम का नहीं ॥*


कंवर सिंह चौधरी ने कहा, "जो भगवान राम का नहीं वह किसी काम का नहीं है, यही सोच के साथ कांग्रेस छोड दी है।" उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक धर्म जाती को साधने के लिए हिंदू धर्म का अपमान कर रही है। कांग्रेस के आलाकमान को हिंदू धर्म की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए अयोध्या जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि जिस कांग्रेस के लिए हमनें लाठियां खाई वह हमारे धर्म को वोट बैंक के खातिर नजरअंदाज कर रही है, उसका अपमान करने का प्रयास कर रही है, यह कभी स्वीकार नहीं है।



वहीं अन्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने हमारी भावनाओं को आहत किया है। पार्टी में लाखों की संख्या में हिंदू धर्म से जुड़े पदाधिकारी हैं और राम भगवान सभी के आराध्य हैं। हमें तो खुशी जाहिर करनी चाहिए की हमें पहली बार दो दिवाली मनाने का अवसर मिल रहा है। उन्होंने यह भी कहा है कि वह फिलहाल किसी भी पार्टी को ज्वाइन नहीं करेंगे और केवल अयोध्या राम मंदिर निमंत्रण पत्र बांटने घर-घर पीले चावल बांटने के साथ ही हिंदू संस्कृति को बचाने और युवाओं को जोड़ने का काम करेंगे।


इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के साथ गौ रक्षा मंच के कार्यकर्ता भी उपस्थित रही। जिन्होंने कांग्रेस छोड़कर सनातन के लिए कार्य करने आगे आए कार्यकर्ताओं को भगवा दुपट्टा धारण करवाकर उनका स्वागत किया।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)