स्वयं सेविकाओं ने बस्तियों में चलाया स्वास्थ्य जागरूकता अभियान

Bekauf Khabar Bharat
By -
0

छात्राओं ने नई बस्ती, बौलिया पसियाना, मिसिरपुरा, हरिजन बस्ती, पसियाना मलिन बस्ती एवं जीयूतपुरा बस्तियों में लोगों को  स्वास्थ के प्रति किया जागरूक 



वाराणसी। राष्ट्रीय सेवा योजना, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ द्वारा आयोजित सात दिवसीय विशेष शिविर के तीसरे दिन गुरुवार को स्वयं सेविकाओं ने स्वास्थ्य जागरूकता अभियान चलाया। छात्राओं ने नई बस्ती, बौलिया पसियाना, मिसिरपुरा, हरिजन बस्ती, पसियाना मलिन बस्ती एवं जीयूतपुरा बस्तियों में जाकर के विभिन्न परिवारों के सदस्यों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया।


स्वयं सेविकाओं ने उन्हें बताया कि शारीरिक स्वच्छता का हमारे दैनिक जीवन में बहुत महत्व है। नियमित स्नान, शरीर की साफ-सफाई का ध्यान रखना, स्वच्छ कपड़े पहनना,


हाथ-मुंह धोना, समय पर नाखून और दांतों की सफाई स्वच्छता के महत्वपूर्ण नियम है।


बौद्धिक सत्र में मुख्य अतिथि आचार्य महंत विचार साहेब जी पीठाधीश्वर, संत कबीर निर्वाण समाधि मंदिर, मगहर रहे। उन्होंने कबीर के दोहों के माध्यम से कबीर के दार्शनिक विचारों पर प्रकाश डाला। मनुष्य के जीवन का एक ही उद्देश्य है जन्म-मरण के बन्धन से मुक्ति और परमात्मा का साहचर्य। इसलिए कबीर कहते हैं कि तेरी संगी कोउ नहीं है। मनुष्य अकेला इस संसार में आता है और खाली हाथ अकेला ही जाता है। यहां कबीर अद्वैतवादी की तरह सोचते है कि ब्रह्म सत्य और जगत मिथ्या है। 


डॉ. अजय कुमार पांडे, सदस्य, बाल कल्याण समिति, संत कबीर नगर ने बालक एवं बालिकाओं के कानूनी अधिकारों पर प्रकाश डाला। गोविंद दास शास्त्री महंत प्राकट्य स्थल, लहरतारा ने कहा कि संत कबीर लोगों को जीवन के वास्तविक सुख का अनुभव कराना चाहते थे। यह शिविर अधिकारी डॉ. अनीता, डॉ. भारती कुरील, डॉ. अंजना वर्मा, डॉ. सुनीता, डॉ. वीणा वादिनी एवं डॉ.सविता कार्यक्रम अधिकारियों के नेतृत्व में संचालित हो रहा है।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)